ट्रेंडिंगन्यूज़रोजी-रोटी

Shri Lanka Economic Crisis: श्रीलंका में पेट्रोल और डीजल की कीमत सुनकर चकरा जाएगा सिर, लोगों पर महंगाई का अटैक

नई दिल्ली: श्रीलंका आर्थिक संकट से जूझ रहा वो देश है जहां हर दिन नई मुश्किलें खड़ी हो जा रही हैं. श्रीलंका में पेट्रोल की कीमत में 50 श्रीलंकाई रुपये और डीजल की कीमतों में 60 श्रीलंकाई रुपये की बढ़ोतरी (Petrol Diesel Price) हुई है. विदेशी मुद्रा की भारी कमी की वजह से श्रीलंका अपने नागरिकों के लिए जरूरी चीजों का आयात नहीं कर पा रहा है. 

इस वजह से ईंधन (Fuel) का संकट गहरा गया है और पेट्रोल-डीजल की कीमतों (Petrol Diesel Price) में भारी बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. बैंकिंग और लॉजिस्टिक समस्याओं का शिपमेंट श्रीलंका नहीं पहुंच सका है. पड़ोसी देश में पिछले दो महीनों में तीसरी बार ईंधन की कीमतें बढ़ाई गई हैं.

ये भी पढ़ें- Pani Puri Ban: इस राज्य के लोग नहीं खा सकेंगे गोल-गप्पे, प्रशासन ने लगा दिया बैन, जानिए क्या है मामला ?

इस वजह से ईंधन (Fuel) का संकट गहरा गया है और पेट्रोल-डीजल की कीमतों (Petrol Diesel Price) में भारी बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. ईंधन बेचने वाली सरकारी रिफाइनरी सीलोन पेट्रोलियम कॉरपोरेशन (CPC) ने कहा कि कीमतों में बढ़ोतरी रविवार रात दो बजे से लागू हो गई है. श्रीलंकाई सरकार ने ईंधन संकट के कारण आवाजाही को कम करने के लिए स्कूलों के साथ-साथ गैर-जरूरी सरकारी संस्थानों को दो सप्ताह के लिए बंद कर दिया था.

विदेशी मुद्रा के गहरे संकट से जूझ रहे श्रीलंका में एक व्यक्ति के पास रखी जाने वाली विदेशी मुद्रा (Sri Lanka Foreign Exchange) की सीमा घटा दी गई है. अब एक व्यक्ति के पास अधिकतम 10,000 डॉलर की विदेशी मुद्रा ही रह सकती है. श्रीलंका सरकार ने कहा श्रीलंका में रहने वाले या वहां के किसी व्यक्ति द्वारा अपने कब्जे में रखी गई विदेशी मुद्रा की मात्रा को 15,000 अमेरिकी डॉलर से घटाकर 10,000 अमेरिकी डॉलर कर दिया गया है.

श्रीलंकाई प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने भी नागरिकों से आग्राह किया था कि वे ईंधन का इस्तेमाल संयमित तरीके से करें. श्रीलंका के ऊर्जा मंत्री ने बीते दिनों वाहन चालकों ईंधन में हो रही कमी के लिए माफी मांगी है. ऊर्जा मंत्री कंचना विजेसेकेरा ने कहा था कि पिछले सप्ताह आने वाले तेल के शिपमेंट नहीं पहुंचे है, बैकिंग समस्याओं के चलते आने वाले सप्ताह भी तेल श्रीलंका नहीं पहुंच पाएंगे. गंभीर होती स्थिति को देखते हुए ऊर्जा मंत्री कंचना विजेसेकेरा ने जोर देकर कहा कि सरकार रूस से तेल खरीदने के विकल्प तलाश रही है. उन्होंने कहा कि आखिरी जहाज जो आने वाला था, वह एक रूसी जहाज था. दो मंत्री ईंधन और अन्य राजनयिक मामलों पर चर्चा करने के लिए सोमवार को रूस की यात्रा पर जाने वाले हैं.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button