ट्रेंडिंगन्यूज़

पुडुचेरी और चेन्नई के तीन दिवसीय दौरे पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ मनसुख मांडविया

नई दिल्ली:  केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण और रसायन एवं उर्वरक मंत्री, डॉ मनसुख मांडविया 24 जून से 26 जून, 2022 तक पुद्दुचेरी और चेन्नई का दौरा करेंगे। सहयोगपूर्ण भागीदारी और कार्यक्रमों तथा पहलों को लागू करने पर ध्यान केंद्रित करने के उद्देश्य से की जा रही केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री की यह यात्रा एक टिकाऊ, लचीली और दीर्घकालिक तथा मजबूत स्वास्थ्य व्यवस्था कायम करने के प्रयासों को रेखांकित करेगी।

पुद्दुचेरी में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री

पुद्दुचेरी में स्वास्थ्य प्रणाली को अधिक मजबूत बनाने के प्रयास के तहत डॉ. मनसुख मांडविया 24 जून, 2022 को वहां जाएंगे। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री पुद्दुचेरी में मेडिकल एंटोमोलॉजी (वीसीआरसी) में प्रशिक्षण के लिए बनाए जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय उत्कृष्टता केंद्र का राज्य के उपराज्यपाल, मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री की मौजूदगी में शिलान्यास करेंगे। इसके बाद वे वीसीआरसी में स्थित अत्याधुनिक सुविधाओं को देखेंगे और छात्रों तथा संकाय सदस्यों के साथ बातचीत करेंगे। इसके बाद वीसीआरसी के निदेशक द्वारा एक प्रस्तुति दी जाएगी।

जवाहरलाल इंस्टीट्यूट ऑफ पोस्टग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (जिपमर) में डॉ. मांडविया इंटरनेशनल स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ का उद्घाटन करेंगे और छात्रों तथा संकाय सदस्यों से बातचीत करेंगे।

ये भी पढ़ें- Presidential Election: पीएम मोदी की मौजूदगी में द्रौपदी मुर्मू ने दाखिल किया राष्ट्रपति पद के लिए नामांकन पत्र

एक संयुक्त बैठक में डॉ. मनसुख मांडविया स्वास्थ्य मंत्रालय और उर्वरक मंत्रालय की गतिविधियों की समीक्षा करेंगे। वह किलपुथुपतु स्थित हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर का दौरा करेंगे  और ई-परामर्श तथा ई-संजीवनी की समीक्षा भी करेंगे।

चेन्नई में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री

चेन्नई यात्रा के दौरान, डॉ. मनसुख मांडविया ओमांदुरर स्थित तमिलनाडु सरकार के मल्टी सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल जाएंगे, जहां वे अवाडी स्थित सीजीएचएस वेलनेस सेंटर और लैब की आधारशिला रखेंगे। डॉ. मांडविया राज्य में ई-राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के मिशन निदेशक के साथ बैठक करेंगे। इसके बाद एनएचएम की प्रक्रियाओं की समीक्षा और उनके संबंध में एक प्रस्तुति दी जाएगी।

नई प्रौद्योगिकियों के विकास, अनुप्रयोगों और उद्यमियों के लिए तकनीकी हस्तांतरण, बौद्धिक संपदा (आईपी) और ज्ञान का आधार विकसित करने के उद्देश्य से पेट्रोकेमिकल क्षेत्र में अनुसंधान एवं विकास को बढ़ावा देने के लिए डॉ. मनसुख मांडविया गिंडी स्थित सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ पेट्रोकेमिकल्स इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (सिपेट) में एक नए प्रौद्योगिकी केंद्र की आधारशिला रखेंगे। इसके बाद वे सिपेट स्थित सुविधाओं को देखेंगे। इसके अलावा वे  मनाली स्थित मद्रास फर्टिलाइजर लिमिटेड (एमएफएल) और अन्ना नगर स्थित तमिलनाडु मेडिकल सर्विसेज कॉर्पोरेशन लिमिटेड, टीएनएमएससी और ड्रग वेयरहाउस आदि सुविधाओं को भी देखने जाएंगे।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button