ट्रेंडिंग

बच्चे को अगवा कर मांगी 50 लाख की फिरौती, यूपी STF दो अपहरणकर्ता को धर दबोचा

बस्ती: बस्ती पुलिस और एसटीएफ यूपी की संयुक्त कार्रवाई में अपहरणकर्ताओं के चंगुल से 12 वर्षीय बालक को सकुशल बरामद कर लिया है। पुलिस ने मौके से दो अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार करने में सफलता पायी है। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने पुलिस टीम को बालक को सकुशल बरामद करने पर एक लाख का इनाम देने की घोषणा की है।

बस्ती जिले के रुधौली थाना क्षेत्र के रुधौली बाजार कपड़ा व्यवसायी अशोक कुमार गुप्ता के पुत्र अखंड कुमार कसौधन उर्फ अनुज (12 वर्ष) को 23 अप्रैल को लगभग साढे चार बजे अपहण कर लिया था। अपहणकर्ताओं ने अनुज के पिता अशोक कुमार गुप्ता के मोबाइल नंबर पर फोन करके 50 लाख की फिरौती मांगी थी और फिरौती की रकम देने पर बच्चे को जान से मारने की धमकी दी।

और पढ़े- Patiyala Violence News: पटियाला में दो गुटों के बीच झड़प, लोगों का दिखा उग्र रूप

अशोक कुमार गुप्ता ने सारी जानकारी रुदौली पुलिस को दी। 50 लाख की फिरौती के लिए अपहरण की सूचना मिलते ही पुलिस एक्शन में आ गई। बच्चे की सकुशल बरामदगी के लिए बस्ती पुलिस,एसटीएफ यूपी, एसओजी टीम ,सर्विलांस टीम ,एंटी नारकोटिक्स टीम, साइबर सेल की टीम ने संयुक्त योजना बनायी और कई मोर्चो पर जाल बिछाकर अपहरणकर्ताओं के चंगुल से 12 वर्षीय बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया गया। अपहरणकर्ता बच्चे का अपहरण कर सहजनवा में एक कमरे में रखे हुए थे, उन्होने बच्चे के हाथ पांव और मुंह बांध रखा था। वे डराने के लिए बच्चे के साथ मारपीट भी करते थे।

आज बस्ती मंडल रेंज के आईजी राजेश मोडक और बस्ती पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव ने घटना का खुलासा करते हुए बच्चे को उसके पिता कपड़ा व्यवसायी अशोक कुमार गुप्ता को सौंप दिया। पुलिस अधीक्षक बस्ती ने यह बताया कि अपहरण कर्ताओं द्वारा जिस मोबाइल फोन से फिरौती मांगी थी, वह फोन एक चाय के दुकानदार का था। अपहरणकर्ता कस्बे से कुछ दूर उस छोटी सी चाय की दुकान पर गए थे और दुकानदार से मोबाइल फोन मांगा था कि उन्हें किसी से बहुत जरूरी बात करनी है। अपहरण कर्ता ने अपना मोबाइल खराब होने का बहाना बनाया था।

अपहरण के दूसरे दिन अशोक कुमार गुप्ता के पास फोन आया कि फिरौती की रकम का इंतजाम हुआ कि नहीं, तब उस नंबर को पुलिस ने ट्रेस किया तो वह एक छोटी सी जूस की दुकान चलाने वाल का नंबर था। उस जूस दुकानदार ने बताया पुलिस को दो लोग काली पल्सर मोटरसाइकिल से पहुंचे थे और कहा था कि एक जरूरी फोन करना है, हमको मोबाइल दे दीजिए। दुकानदार ने मोबाइल दे दिया और फिर उन्होने पैसे की डिमांड की और न देने पर बच्चे को मारने की धमकी दी।
तीसरी बार किये फोन के ट्रेस करने पर पुलिस को पता चला कि यह मोबाइल फोन 2 दिन पहले चोरी हो गया था। इन सबसे पुलिस को अपहरकर्ताओं की लोकेशन का अनुमान हो गया।

पुलिस अधीक्षक बस्ती आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि अपहण कर्ताओं ने क्राइम पेट्रोल सीरियल को देखकर घटना का अंजाम दिया था और पकड़े जाने के डर से फिरौती मांगने में अपना मोबाइल प्रयोग नहीं किये थे।
उधर पुलिस अधीक्षक बस्ती आशीष श्रीवास्तव जब अपह्रत बालक को सकुशल लेकर रुधौली थाने पर पहुंचे, तो थाने पर बच्चे के परिजनों सहित रुधौली कस्बे की जनता ने पुलिस अधीक्षक का गाजे बाजे के साथ फूल माला पहनाकर जोरदार स्वागत किया और बच्चे का सकुशल बरामदगी के लिए दिल से धन्यवाद दिया।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button